islam is the fastest growing religion debunked

Muhammad Khaja Tajuddin
November 13 at 5:45pm
Islam is the Worlds largest growing Religion.

ISLAM is Fastest Growing Religion ▶ Everyday 68000 people become Islam 2014
https://www.fb.com/HijabIsMyFashionAndMyDutyAccording to the Guinness Book of World Records, Islam is the world’s fastest-growing religion by number of…
YOUTUBE.COM
LikeLike · · Share
Anand Chauhan likes this.

Sayantan Nandy Sorry to burst the bubble Muhammad Khaja Tajuddin Sahab…

Actually Islam is also facing SERIOUS PROBLEMS like any other religion in the world!!

AFRICA: Muslims previously outnumbered Christians in sub-Saharan Africa. However, a study published in April 2010 by the Pew Forum on Religion & Public Life has found that Christians now outnumber Muslims by 2 to 1 making Islam a minority belief. The number of adherents to Christianity in sub-Saharan Africa grew from fewer than 9 million in 1910 to 516 million today, a 60-fold increase eclipsing the growth of Islam.

SOURCES:
Christians now outnumber Muslims in sub-Saharan Africa by 2 to 1 – Catholic Culture, April 19, 2010
Tolerance and Tension: Islam and Christianity in Sub-Saharan Africa – The Pew Forum on Religion & Public Life, April 15, 2010
Global Christianity: A Report on the Size and Distribution of the World’s Christian Population – The Pew Forum on Religion & Public Life, December 19, 2011

AMERICA: Contrary to what is often claimed, Islam is not the fastest growing religion in the United States. Here are the available facts:

The ARIS polls 1990 and 2000 show that the percent of change for Islam was +109%. The percent of change for Nonreligious/Secular (+110%), Native American Religion (+119%), Buddhism (+170%), Baha’i (+200%), Hinduism (+237%), New Age (+240%), Sikhism (+338%) and Deism (+717%) were all higher.

The American Religious Identification Survey gave Non-Religious groups the largest gain in terms of absolute numbers – 14,300,000 (8.4% of the population) to 29,400,000 (14.1% of the population) for the period 1990 to 2001 in the USA. Also, Americans with no religion were the fastest growing segment from 2001 to 2008.
November 13 at 6:43pm · Unlike · 5

Sayantan Nandy According to the Cultural Orientation Resource Center, 60% of all refugees admitted into the United States are from Muslim-majority countries.

Likewise, a Pew report published in January 2011 found that “About two-thirds of the Muslims in the U.S. today (64.5%) are first-generation immigrants (foreign-born)”. Contrary to the often-quoted figures provided by CAIR and in spite of the massive influx of Muslim refugees, a Pew survey carried-out in October 2009 found the estimate for the total Muslim population of the U.S to be at only 2.454 million.Percentage-wise, Islam represents only 0.8 percent of the United States’ religious make-up.

SOURCES:
Largest Religious Groups in the United States of America – Adherents.com, accessed April 16, 2011
American Religious Identification Survey, Key Findings – The Graduate Center of the City University of New York
American Religious Identification Survey, Full PDF Document – The Graduate Center of the City University of New York
Fastest Growing Religion = No Religion (New Religious Identification Survey) (original pdf report | website)
US Refugee Program: Current Fiscal Year Admission Statistics – Cultural Orientation Resource Center, Updated October 2009
The Future of the Global Muslim Population: Projections for 2010-2030 – Pew Research Center, January 27, 2011
Patrick Goodenough – New Survey on Islam Calls Into Question Population Figure Used by Obama – CNS News, October 9, 2009

China – Islam and Christianity both entered China during the 7th century, and unreferenced claims have been made of around 100 million Muslims in China. However, most reliable estimates put the figures at 20 to 30 million Muslims (1.5% to 2% of the population).Similarly, some Christian organizations have claimed up to 130 million Christians in China. However, most reliable estimates range from 40 million (3% of the total population) to 54 million (4%), meaning the growth of Christianity in China is almost double that of Islam.
SOURCES:
China – Wikipedia, accessed September 23, 2011
Masood Rab – Chinese Muslim Scholars – Muslim Media Network, March 24, 2008
NW China region eyes global Muslim market – China Daily, July 9, 2008
China (includes Tibet, Hong Kong, and Macau) – US Department of State, International Religious Freedom Report 2006
China/ Religions – CIA, The World Factbook, accessed September 23, 2011
Mark Ellis – China Survey Reveals Fewer Christians than Some Evangelicals Want to Believe – Assist News, October 1, 2007
Survey finds 300m China believers – BBC News, February 7, 2007
Jonathan Watts – Chinese survey finds religion booming – The Guardian, February 7, 2007

Russia – There is a wide spread belief that there are around 20 million Russian Muslims and that vast amounts of Russians are converting to Islam. However, there are only about 7 to 9 million Muslims in Russia and less than 3,000 ethnic Russians have converted to Islam within the last fifteen years.
For the same period almost 2 million ethnic Muslims have become Orthodox Christians. Over 400 Russian Orthodox clergy belong to traditionally Muslim ethnic groups, 20 percent of Tatars are Christian, and 70 percent of interfaith marriages result in the Muslim spouse conversion to Christianity.

SOURCE:
20Mln Muslims in Russia and mass conversion of ethnic Russians are myths – expert – Interfax, April 10, 2007

EUROPE – A United Nations’ survey showed that between 1989 and 1998, Europe’s Muslim population grew by more than 100 percent, due mainly to the effects of immigration from Muslim countries. Ontario Consultants on Religious Tolerance have an unsourced claim of 2.9 percent per year. And according to a Pew report published in January 2011, the future growth of Islam in Europe will be “driven primarily by continued migration.
SOURCE:
The Future of the Global Muslim Population: Projections for 2010-2030 – Pew Research Center, January 27, 2011

United Kingdom/EVROPE – It has been estimated that during 2001 – 2011, about 100,000 people converted to Islam in the United Kingdom, but 75 percent of these converts quickly left Islam, during this period. On the whole, there are about 200,000 apostates from Islam living in the UK, doubling the number that have converted. Similarly to the rest of Europe, the growth of Islam in the UK is primarily due to higher birthrates among Muslims.
SOURCE:
Omar Shahid, “Confessions of an ex-Muslim”, New Statesman, May 17, 2013 (archived).
Anthony Browne – Muslim apostates cast out and at risk from faith and family Muslim apostates cast out and at risk from faith and family – The Sunday Times, February 5, 2005

IRAN – one million Iranians, particularly young people and women, have abandoned Islam and joined Evangelical churches.
SOURCE:
http://www1.adnkronos.com/AKI/English/Religion/…

World Religions Religion Statistics Geography Church Statistics
Adherents.comis a growing collection of church…
ADHERENTS.COM
November 13 at 6:43pm · Like · 1

Sayantan Nandy IRAQ – After years of al-Qaeda war on Iraq, a similar phenomenon is growing. The New York Times March 4 reports: “After almost five years of war, many young people in Iraq, exhausted by constant firsthand exposure to the violence of religious extremism, say they have grown disillusioned with religious leaders and skeptical of the faith that they preach.” A high school girl tells Times reporters: “I hate Islam and all the clerics because they limit our freedom every day and their instruction became heavy over us. Most of the girls in my high school hate that Islamic people control the authority because they don’t deserve to be rulers.” A 19-year-old man says: “The religion men are liars. Young people don’t believe them. Guys my age are not interested in religion anymore.” A Baghdad law professor explains that her students “have changed their views about religion. They started to hate religious men. They make jokes about them because they feel disgusted by them.” A 24-year-old female college student says, “I used to love Osama bin Laden. Now I hate Islam. Al-Qaeda and the Mahdi Army are spreading hatred. People are being killed for nothing.”
SOURCE:
http://www.nytimes.com/…/world/middleeast/04youth.html…

Islam is also losing adherents in areas where Islamist harassment is heavy on the streets. The London Times estimates 15% of Muslims living in Western Europe have left Islam — 200,000 in the UK alone. Those who leave often face harassment, threats, and attack.

MALAYSIA – The mufti of Perak, Malaysia, estimates about 250,000 people have abandoned Islam, making formal application for apostasy to the state — a right allowed to Malaysian citizens who are not ethnic Malays. Says he: “This figure does not include individuals who don’t do solat, doesn’t fast and breaks [sic] all the tenets of Islam.” Borrowing from the communist playbook, Malaysia operates “reeducation camps” for any ethnic Malay found guilty of apostasy. Unsurprisingly, ethnic Malays are at the bottom of the economic ladder in Malaysia.

Aljazeera.net published an interview with Ahmad Al Qataani (dated 2006) An important Islamic cleric who said: “In every hour, 667 Muslims convert to Christianity. Everyday, 16,000 Muslims convert to Christianity. Ever year, 6 million Muslims convert to Christianity.” The following is part of the transcript of Al Jazeera’s Interview with Al Qataani translated to English. Here is the original transcript in Arabic.
http://www.aljazeera.net/…/articles/2000/12/12-12-6.htm

Violence Leaves Young Iraqis Doubting Clerics – New York Times
Many young people in Iraq have grown disillusioned with…
NYTIMES.COM|BY BY SABRINA TAVERNISE
November 13 at 6:43pm · Like · 1

Satyaki Banerjee Four wives, forcefully conversn and numbers of children with lack of mainstream education.
November 13 at 7:14pm · Like

Harshit Bagai pigs r growing with their piglets
November 13 at 8:13pm · Like · 1

Kushal Jain Sayantan Nandy Great stats! India?
November 13 at 8:21pm · Like

Sayantan Nandy The same problem is plaguing both India and Pakistan Kushal Jain Ji…more and more South Asian Muslim youths are getting disenchanted with their faith are turning into atheists or even converting to other religions on the sly… http://ibnlive.in.com/…/pakistani…/130354-19-93.html

Pakistani Muslim youths turning into atheists
Pakistani Muslim youths are beginning to question the…
IBNLIVE.IN.COM
November 13 at 8:25pm · Like · 3

Shreeharsha Hegde if you number represents Quality, you are totally mistaken !! … For your Information … Mosquitoes are in Highest Number among all living species on earth !!
November 13 at 8:26pm · Like

Mahendr Kumar Jaiswar B.coz muslim don.t know what is life .they fought like blind .they born child like comtition .
90% Muslim population move his life on other way (maulana .mulla. ) Not use self sense .not cincronization b/w his financial and phusical status and socioal status
o aaj bhi lakir ke fakir hai
15 hrs · Like

यशवंत मेहता bechara khaja. nadyji ne uski neend haram kar di.
Just now · Edited · Like

Advertisements

क्या कुरान के अल्लाह को किसी की मदद लेनी पड़ती है ?

क्या कुरान के अल्लाह को किसी को मदत लेना पड़ता है।मित्र इश्वर सर्व शक्तिमान है, इस लिए इश्वर को कोई प्रकार सहायता कि प्रोयोजन नेही होता, इश्वर अपने समर्थ से अपनी सबि कार्य खुद ही कर लेता है। जैसा सृष्टी, पलय, और जीबआत्मा के कर्म फल प्रदान करने मे इश्वर को किसी के सहायता कि कोई प्रोयोजन नेही होता है।परन्तु कुरान के अल्लाह किसी के सहायता बिना खुद अपनी कार्य करने सख्सम नेही है। इस लिए कुरान के अल्लाह को सर्वदा फरिश्तो के सहायता लेना पड़ा।अल्लाह के लिए सबी फ़रिश्ते किस प्रकार मदतगार थे, इसका प्रमाण कुरान में अनेक जागा में मिलते है। उसमे से एक प्रमाण आप लोगो के सामने पेश कर राहा हूँ। और जरुरत पड़ने से आगे और दे दूंगा।
मित्र मुसलमान मित्र जन का कहना है अल्लाह सब का मदतगार है, पर खुद अल्लाह किसी का मदत नेही लेता है। मुसलमान के ऐसी बात के लिए आप लोग जब किसी मुसलमान मित्र से पूछ लेंगे, जब अल्लाह किसी के कोई मदत नेही लेता तो कुरान को कैसे उतारा गया था, ओ ही कुरान जिसे आप लोग कलामुल्लाह मानते है। सच कहता हूँ मित्र आप लोगो के पूछ ने से ही मुसलमान मित्र जनो का बोलती बंद हो जायगा जी। अब देखते है कुरान आया तो आया कैसे।
अल्लाह ने जिब्राइल को कुरान सुनाया और जिब्राइल गारे-हिरा नाम का एक गुफा में आकर पहले हजरत मोहम्मद का सीना चाक किया, यानि मोहम्मद साहब का दिल को निकाला, फेर उसे आवे जमजम से धोया और बाद में उसे मोहम्मद साहब के शारीर में राख कर सिल दिया।जिब्राइल पहले कुरान के पांच आयेते लेके आया था, जिसका प्रमाण मैंने फोटो में दे राखा है। जिसका अर्थ है।
1. पड़ो अपने रब के नाम के साथ जिसने पैदा किया।
2. जमे हुए खून के एक लोथरे से इंसान कि रचना की।
3. पड़ो, और तुम्हारा रब बड़ा उदार है।
4.जिसने कलम के द्वारा ज्ञान कि शिख्सा दी।
5.इन्सानको वह ज्ञान दिया जिसे वह ना जानता था।
———————————–
अब जिब्राइल के इस कारनामा से कुछ सवाल सामने आ गाया है।
1.जब जिब्राइल को मुहम्मद साहब को पड़ाने के लिए ये सब करना पड़ा था, क्या किसी को पड़ाने के लिए उसका सीना चीर के दिल को निकाल के, जमजम के पानी में धोके, फेर उसे शारीर में राख के सिल देने से ही उसे पड़ाना कहता है ?
2.जब अल्लाह ने जिब्राइल को बिना किसी चीर फार के पड़ा सकते है तो मुहम्मद साहब को पड़ाने में अल्लाह को क्या पड़ेशानी हुआ था ?
3.जब मुहम्मद साहब को जिब्राइल ने चीर फार करके पड़ा दिया, तो कुरान किसका कालाम हुआ, जिब्राइल का या अल्लाह का ?
4.किसी के दिल निकाल के फेर उसकी शरीर में दिल लागाने समय ओ आदमी बेहोश हो जाता है, जिब्राइल उस समय पड़ाया था या बाद में पड़ाया था ?
5.क्या एक गुफा के अन्दर इस तरह से सुपर सर्जरी किया जा सकता है।
6.जिब्राइल ने मुहम्मद साहब को पड़ाने के लिए जो सुपर सर्जरी किया था, उस सर्जरी में कौन कौन सा यंत्र का इस्तेमाल किया गया था?
7.जिब्राइल को ऐसी सुपर सर्जरी करना कौन सिखाया था, क्या अल्लाह ने जिब्राइल को सिखाया था ?
8.अल्लाह जिब्राइल जैसे और कुछ फ़रिश्ते को धरती पे भेज देता तो आज कम से कम मुसलमानो को किसी भी सर्जरी में लाखो रूपया गावाना नेही पड़ते।फेसबुक के मित्र जनो मैं तो सिर्फ इस्लाम के थोड़ा सा सच्चाई आप के सामने राख राहा हूँ, इस्लाम में ऐसी अनेक सच्चाई भड़ा पड़ा है।
हायरे बुधि से विचार करने वाले मानव और कब तक तुम लोग ऐसी मुर्ख बनके रहोगे ?

— with Jay AryaAarya SandeepShiva Ji Bharat and 46 others.

https://www.facebook.com/photo.php?fbid=417598578367167&set=a.140426492751045.26547.100003510847844&type=1&theater

by

https://www.facebook.com/subrata.chanda.50

comments
Mahender Pal Arya यह धारणा ही गलत है की अल्लाह किसी का सहयोग नही लेता ? अगर सहयोग न ले तो दुनिया बनाना अल्लाह की बस की बात नहीं ? सबसे पहले अल्लाह ने कुन कहा होजा ? जब कोई वस्तु अभी बनायाही नहीं गया तो किस को कहा -होजा एक आदेश है होने का कारण क्या है ? कौन कौन जी वस्तुवों के द्वारा होना है,यह इस्लाम नहींजानता और न अल्लह ही इसका जवाब देसकता ? फिर आदम को बनाने के लिए मिट्टी मंगवानी पड़ी अब जो मिट्टी लाया अल्लाह उसके अधीन होगया ?वह मुर्ख है जो कहता है की अल्लाह किसीका मोहताज नहीं ? अल्लाह हर मुस्लमान के दोनों कन्धों पर दो फ़रिश्ते बिठाया नेकी -और बदी को लिखवाता है ? अल्लाह उस किराबीन और कातेबीन के अधीन है ? हर मुस्लमान के रूह [आत्मा] निकालने के लिए, मालेकुल मौत [मौतकी मलिक] जिब्रील , दुनिया को फ़ना करने के लिए इस्राफील सुर फुंकेगे , फिर कबर में सवाल करने को ,मुनकिर ,और नकीर , दो फ़रिश्ते आएंगे अदि ,इसप्रकार अनेक फ़रिश्ते है अल्लाह जिन से कम लेते हैं -उनके बिना अल्लाह का काम चलही नहीं सकता | यह अज्ञानता है जो यह कहते की अल्लाह किसी का मोहताज नहीं

  • Golam Mustarshid Alquadry Vedic iswar ko sristi k liye prakriti k mohtaj hona parta hai prakri isi karan unke nikat anadi hai,
    aur faristo se madad lena iska arth ye hai k badsaj apne noukar ko kaam karne ka adesh de raha hai raja chote se chota kaam v noukar se karwata hai to kya wo us chote kaam me noukar ka mohtaj hoga
  • Shiva Ji Bharat Jab ye prakriti (space) he ni tha to Kuran ka allaa aur uske farishte rahate kaha the…..musalman bolegaa jannat me to jannat kaha stheet tha bhai jab koi space he ni tha to….musalman bhai thodi roshni daloge kyaa ispar
    सुशील आर्यवीर मुश्तरशिद
    ईश्वर प्रकृति का मोहताज नहीँ वो कैसे अभी बताता हूँ पहले आप बतायेँ क्या कुरान का ज्ञान मुहम्मद को देने के लिए खुदा जिब्रील का मोहताज था या नहीँ अगर नही था तो सीधा कुरआन मुहम्मद पर क्योँ न आया
    दूसरी बात कुरआन का अल्लाह खुद घोषणा कर रहा है कि वो मोहताजी है कैसे देखो कुरआन शरीफ सूरा मुहम्मद आयत 7
    तर्जुमा
    हे वे लोग जो ईमान लाये हो यदि तुम अल्लाह की मदद करोगे तो वह तुम्हारी मदद करेगा और तुम्हारे कदमोँ को जमा देगा
    Vaibhav Kaushik Yeh raha Sushilji.. Surah Muhammad Ayat 7
    1450856_258269647657213_1235721829_n
    My comments
    [Observe: Allah, his messenger and their contract with the muslims]
    O you who believe! If you help God, that is to say, His religion and His Messenger, He will help you, against your enemy, and make your foothold firm, He will make you stand firm [while you fight] on the battleground.

अल्लाह ने …….. फूंका और मरियम को बच्चा पैदा हुआ

https://www.facebook.com/subrata.chanda.50/posts/416582245135467?ref=notif&notif_t=like_tagged

इस्लाम अल्लाह अल्लाह करके गला फाड़ने वाला Abdullah Is Back जी ने फेसबुक में अपनी पोस्ट डाल के फेर से फंसा दिया इस्लाम को।

मित्र काल रात पंडित Mahender Pal Arya जी और मेरा नाम लेके एक पोस्ट फेसबुक में अब्दुल्लाह जी के दुयारा डाला गया। इस में अब्दुल्लाह जी ने दावा किया पंडित जी और हमलोग कुरान के आयेते के गलत अर्थ करके कुरान के ऊपर अपशब्द का प्रोयोग किया। जब मैं अब्दुल्लाह जी के ये पोस्ट देखा, इसका जवाब देना उचीत समझा, ताकि फेसबुक के सबी मित्र जनो को सत्य ज्ञान हो जाय। अब्दुल्लाह जी इस्लाम के बचाव के लिए किस प्रकार झूट बोलते है उसका जीता जागता प्रमाण आप लोगो को मेरे इस पोस्ट पर ही मिल जायगा। आप लोग ध्यान पूर्वक पड़े।
मित्र कुछ दिन पहले सुशील आर्यवीर जी के ” खतना ” पोस्ट पर मैंने कुछ commente किया था. मेरा उस commente के सवाल जवाब के आगे अब्दुल्लाह जी से कुरान के ” सूरा 21अम्बिया आयेत 91″ के ऊपर debete हुआ था। इस आएते का अर्थ है- अल्लाह ने मरियम के शर्मगाह में फूंक मारके मरियम और उसके बेटे को दुनिया भर के लिए निशानी बाना दिया है। इस बिषय पे लगातार तीन दिन अब्दुल्लाह जी से हम लोगो का debete हुआ था, और आखरी में जब सबी प्रमाण के साथ हम ने उनको दिखा दिया, कि खुद उनके ही इस्लाम के जानकार अब्दुल करीम पारीख जी ने भी अपनी आसान कुरानिक कोष में भी आयेते में आया फर्जहा शब्द का अर्थ शर्मगाह ही किया तब जाके इनका बाहेस ख़तम हुआ था। निचे कुरान के उसी आयेते का लिख रहा हु।देखिये-
वल्लती अह्सनत फर्जहा फ़ना फखना फिहा मिरुहेना वजायलनाहा. वाबनाहा अयाताल्लिल आलमीन। सूरा 21 अम्बिया आयेत 91.अर्थ- ओ ओरत जिसने अपने स्वतित्व कि हिफाज़त कि थी, हमने उसके भीतर(जाहा फर्जहा शब्द आया) रूह्से फूंका और उसे और उसकी बेटे को दुनिया भर के लिए निशानी बाना दिया।
अब विचार कीजिये, ओ औरत जो अपने स्वतित्व कि हिफाज़त कि थी, हमने उसके भीतर रूह्से फूंका और उसे और उसकी बेटे को दुनिया भर के लिए निशानी बाना दिया। अब रूह किसने फूंका- अल्लाह ने, रूह किसके भीतर फूंका- शर्मगाह के भीतर( जाहा फर्जहा शब्द आया, अरबी में फर्जहा शब्द का अर्थ है शर्मगाह) शर्मगाह किसका- शर्मगाह उस औरत का यानि मरियम का, औरत अपनी स्वतित्व कि हिफाज़त किस अंग से करते है- औरत अपनी स्वतित्व के हिफाज़त अपनी योनि अंग से करते।
आप लीगो को एक बात बताना चाहूँगा, मैंने जो अब्दुल करीम पारीख का आसान कुरानिक कोष का जिक्र किया ये अरबिक शब्द कोष है, कुरान के सबी आयेते का अर्थ यानि तर्जुमा ऐसी अरबिक शब्द कोष से किया जाता है। साथ में कुरान में आया उसी आयेते का उर्दू तर्जुमा का भी प्रमाण दिया, इस आयेते में भी फर्जहा शब्द का उलेख है। सुशील जी के इस पोस्ट पर अब्दुल्लाह जी से कोई जवाब नेही बना तब उस पोस्ट में हम सबी मित्र जन और चर्चा नेही किया. परन्तु अब्दुल्लाह जी ने उनका एक मित्र पाकिस्थान के रमीज़ हबीब के पोस्ट पर झूट बोलने लागे कि हम लोगो ने उनको कोई जवाब नेही दिया, और बार बार उसी पोस्ट पर मुझ से जीद करने लागे, रेफारेंस दो, प्रमाण दो। और मैं भी उनको कहते रहे मेरे मित्र आप को इस बिषय सारे प्रमाण सुशील जी के पोस्ट पर दे दिया आप उस पोस्ट में जाके देख लीजिये, फेर भी जीद करने लागे, तब मैं उनको सुशील जी के उसी debete वाला पोस्ट का linke रमीज़ हबीब के पोस्ट पर ही दे दिया। और मैं ये ही बात कि जानकारी सुशील जी को, सुशील जी के ही दूसरी पोस्ट पर commente करके दे दिया। अब्दुल्लाह जी उहा भी आ गए और शौर मचाने लागे, रेफारेंस दो, प्रमाण दो, डरपोक रेफारेंस क्यों नेही देते।फेर मैं सुशील जी के इस पोस्ट पे भी ओहि debete वाला पोस्ट का लिंक दे दिया, इसमें भी अब्दुल्लाह जी संतुस्ट नेही हुए कहने लागे आयेते बाताओ।मैं भी ओ ही आयेते को दुवारा उन्हें दे दिया। उन्होंने मुझसे कुरान का उसी आयेते से अर्थ करने कहा, फेर हम दोनों में चर्चा हुआ, उस चर्चा में भी अब्दुल्लाह जी से कोई जवाब नेही बन पाया।फेर उन्होंने रात में खुद के i/d पे पंडित महेंद्र पाल आर्य के साथ मेरा नाम जोड़के एक पोस्ट बानाके फेसबुक में डाला, जिसके जवाब में मैं ये पोस्ट कर रहा हूँ।
मित्र मैं आप लोगो को सारे प्रमाण के साथ ये दिखा दिया कि अल्लाह ने किस प्रकार मरियम के शर्मगाह में फूंक मारके इस्सा को पैदा किया था, अब इसी प्रमाण से और भी कुछ सवाल सामने आ गया।
1. अल्लाह ने बिना शारीर से फूंक कैसे मारी ?
2. फूंक मारने के लिए, मु चाहिए, और शारीर के बिना मु होना संभव नेही, कारन मु शारीर से ही युक्त रहते, इसका मतलब ये हुआ फूंक मारने के लिए कुरान का अल्लाह शारीर धारी प्रमाण हो राहा है ?
3. फूंक मारना तभी संभव होगा जब शारीर के भीतर का वायु को बल प्रोयोग करके बाहार किया जायगा, और शारीर के बिना ऐसी असंभव कार्य कभी भी संभव नेही, इस में भी कुरान के अल्लाह के शारीर धारी होने का प्रमाण मिल राहा है।
4.फूंक मारने के लिए कुरान के अल्लाह को किसी एक स्थान में आना पड़ेगा, यानि फूंक मारने के लिए अल्लाह को उस स्थान में, उस समय आना पड़ेगा, जाहा अल्लाह ने फूंक मारी है, और स्थान काल में आना जाना शारीर के बिना कभी भी संभव नेही है।इस प्रमाण से भी कुरान के अल्लाह शारीर धारी प्रमाण हो राहा है।
5.जब इश्वर ने आदि सृष्टी के बाद मानव सृष्टी, स्त्री और पुरुष के मिलन से होने का नियम पूर्वक किया है, अल्लाह खुद उस नियम को कैसे और क्यों तोड़ सकता है ? ऐसी कार्य करने में अल्लाह के सार्थकता क्या था ?
6. क्या अपनी स्वतित्व के हिफाज़त सिर्फ मरियम ने ही किया था? किसी और ने नेही किया था ? फेर अल्लाह के कृपा सिर्फ मरियम के ऊपर ही क्यों? अल्लाह के कृपा किसी और औरत के ऊपर क्यों नेही हुआ ? अल्लाह के कृपा किसी एक के ऊपर होना चाहिए, ना समग्र मानव मात्र के कल्याण के लिए होना चाहिए ?
7. रूह कौनसी थी जो अल्लाह ने फूंका ?
8. रूह कहा से आया था ?
9. कौनसी विज्ञानं से फूंक ने से बच्चा पैदा हो जाता है ?
10. आदि सृष्टी के बाद इश्वर के नियम से बच्चा पैदा होता है, स्त्री और पुरुष के रज और व्रीय के मिश्रण से, पर अल्लाह के फूंक मारने से किस प्रकार से बच्चा पैदा हुआ ?
11. आदि सृष्टी के बाद इश्वर के नियम से स्त्री, पुरुष के मिलन से रज, व्रीय के मिश्रण से मात्रि गर्भ में पहले मानव भूर्ण का सृष्टी होता है, भूर्ण अपनी मा के साथ नाल से युक्त रहता है, और उसी नाल से पुष्टि ग्रहण करके अपनी शारीर का बिकास करके मात्रि गर्भ से बाहार आता है, ये है आदि सृष्टी के बाद इश्वर के नियम पूर्वक मानव सृष्टी, अब कोई इस्लाम के जानकार ये बाताय अल्लाह ने किस प्रकार मरियम के गर्भ में भूर्ण स्थापन किया था ?

मित्र कुरान के इस एक आयेते से ऐसा अनेक प्रश्नों किया जा सकता है, पर इस्लाम के जानकार मेरा किस किस सवाल का जवाब देगा। हायरे बुधि से विचार करने वाले मानव और कब तक तुम लोग मुर्ख बनके रहोगे ?

Not-मैं अपनी इस पोस्ट के message box में अब्दुल्लाह जी से किया, दोनों debete का linke भी दे राहा हूँ , आप लोग उस linke को भी पड़िए और जानिए सत्य क्या है। — with सुशील आर्यवीर and 33 others.

by

1469781_416582165135475_173926502_n

https://www.facebook.com/subrata.chanda.50

My remarks:

Tafsir Jalalyn says in sura anbiya ayat -91 that allah breathed into her of gabriel who breathed into ‘the opening of her garment’ . Now the opening of her garment should be near the vagina since that is the entry to the womb where the foetus of Jesus would be developed. SO in any case this allegorical language is pointing towards her vagina , uterus and womb where Jesus would be conceived. Let us  bless ALLAH whose breathing makes men redundant for the job of producing children.

http://www.altafsir.com/Tafasir.asp?tMadhNo=1&tTafsirNo=74&tSoraNo=21&tAyahNo=91&tDisplay=yes&UserProfile=0&LanguageId=2

And, mention Mary, the one who guarded her virginity, [the one who] preserved it from being taken, so We breathed into her of Our spirit, namely, Gabriel, when he breathed into the opening of her garment and she conceived Jesus. And We made her and her son a sign for all the worlds, that is, [for] mankind, jinn and angels, because she bore him without [having] a male [partner].

Breaking the monopoly of Islam on the use of the words Allah, etc.

The word ALLAH was in use before Islam was born. The catholic church has claimed a right to its use. Is it winning?

http://www.telegraph.co.uk/news/worldnews/asia/malaysia/3811703/Catholic-newspaper-faces-ban-for-writing-Allah.html

http://www.alarabiya.net/articles/2009/02/27/67333.html

http://www.themalaymailonline.com/malaysia/article/keep-calm-let-court-decide-on-allah-catholic-church-pleads

http://www.themalaymailonline.com/malaysia/article/again-malaysias-churches-release-allah-fact-sheet-after-court-loss

Is the claim of the catholic church false? No. See what is written in the quran. Mohammed says that if u ask the pagans as to who created you, they will surely say ‘allah’. This implies allah pre-dates islam in arabia.

If indeed thou ask them who has created the heavens and the earth and subjected the sun and the moon (to his Law), they will certainly reply, “Allah. How are they then deluded away (from the truth)? Allah enlarges the sustenance (which He gives) to whichever of His servants He pleases; and He (similarly) grants by (strict) measure, (as He pleases): for Allah has full knowledge of all things. And if indeed thou ask them who it is that sends down rain from the sky, AND GIVES LIFE THEREWITH TO THE EARTH AFTER ITS DEATH, they will certainly reply, “Allah!” Say, “Praise be to Allah!” But most of them understand not. S. 29:61-63

And if thou ask them, ‘Who has created the heavens and the earth?’ They will, surely, answer, ‘ALLAH.’ Say, ‘All praise belongs to ALLAH.’ But most of them have no knowledge. S. 31:25 Sher Ali

And should you ask themWho created the heavens and the earth? THEY WOULD MOST CERTAINLY SAY: Allah. Say: Have you then considered that what you call upon besides Allah, would they, if Allah desire to afflict me with harm, be the removers of His harm, or (would they), if Allah desire to show me mercy, be the withholders of His mercy? Say: Allah is sufficient for me; on Him do the reliant rely. S. 39:38 Shakir

And those whom they invoke besides God have no power of intercession;- only he who bears witness to the Truth, and they know (him). If thou ask them, who created themTHEY WILL CERTAINLY SAY, God: How then are they deluded away (from the Truth)? (God has knowledge) of the (Prophet’s) cry, “O my Lord! Truly these are people who will not believe!” S. 43:86-88

http://answering-islam.org/Responses/Osama/zaatri_angels.htm

 

Allah (English pronunciation: /ˈælə/ or /ˈɑːlə/Arabic: الله‎ AllāhIPA: [ʔalˤˈlˤɑːh] ( listen)) is the Arabic word for God (literally ‘the God’, as the initial “Al-” is the definite article).[1][2][3] It is used mainly by Muslims to refer to God in Islam,[4] Arab Christians, and often, albeit not exclusively, by Bahá’ísArabic-speakers, Indonesian, Malaysian and Maltese Christians, and Mizrahi Jews.[5][6][7]

http://en.wikipedia.org/wiki/Allah

 

Finally, we arrive at the question as to which of the following will decide the meaning of the word ‘allah’ and on what basis?

Muslims,

Arab Christians, ,

Bahá’ís,

Arabic-speakers,

Indonesian,Malaysian and Maltese Christians,

Mizrahi Jews

I reckon allah will be defined on the basis of the principle of ‘Might is Right ‘. Whosoever wins the clash of civilizations will define ‘allah’.

 

Can the catholic church  digest Islam?

 

namaste

Kya Brahman janm se hota hai?

Kya Brahman janm se hota hai?

brahman ke karak

Mulla Naseeruddin ka jhootha claim:
महाभाष्य के अनुसार जाति जन्म के आधार पर होती है न की कर्म के आधार पर –
2-2-6 इस सूत्र में इस कारिका को लिखते हुए जन्म से ब्राह्मण माना है –

pratyuttar: 

1. मुल्लाजी का कथन निराधार है. यहाँ नञ सूत्र जोकि अष्टाध्यायी २.२.६ में विद्यमान है उसकी व्याख्या पतंजलि मुनि कर रहे हैं. आरम्भ में लिखते हैं की इस समास में किस पद की प्रधानता है…. आदि .

2. आगे लिखते हैं की तप [वेदादि सत्य शास्त्रों में परिश्रम] श्रुत [अध्ययन अथवा ज्ञान ] और योनि ये ब्राह्मण [व्यपदेश ] के  कारक  [निमित्त ] हैं . तप और श्रुत से जो हीन हैं [जैसा लोक में आज द्रष्टव्य है ] वह जन्म मात्र [ब्राह्मण पिता और ब्राह्मण माता से उत्पन्न होना मात्र] से ब्राह्मण हैं . [महाभाष्य भाग ३ रामलाल कपूर पृष्ठ १९२ ]

[यानि जन्ममात्र से ब्राह्मण, कर्म और ज्ञान से हीन–> ऐसा ब्राह्मण किस काम का ? ]

मनु २.२८ में भी ब्राह्मण कर्म से ही लिखा है. देख लेना

shudra putron ko brahman bane pratyaksha dekhna ho to  arya samaj mein aa jana .

namaste

Ayesha said: Are you not the one falsely claiming/presuming to be the Messenger of Allah?

http://wilayat.net/index.php/en/shia-sunni/63-aisha-bint-abi-bakr/523-did-he-marry-his-aunt

Did Prophet Marry His Aunt???

Details
Parent Category: Shia/Sunni: Articles
Category: Aisha bint Abi Bakr
Published on Thursday, 06 August 2009 13:17
Written by Guided

In the Name of Allah, the Beneficent, the Merciful

We read in Musnad Ahmad 6/409, Hadith 26050:

عن سعيد بن المسيب : أن خولة بنت حكيم السلمية وهي إحدى خالات النبي صلى الله عليه وسلم

Narrated Sa’eed ibn al-Musayab:

Khaula bint Hakim al-Salamiyah was one of the aunts of the Prophet.

Shaykh al-Arnaut says:

حديث حسن

The hadith is hasan.

In short, according to Sunnis, Khaula bint Hakim al-Salamiyah was an aunt to the Holy Prophet

Then, we read this:

Narrated Hisham’s father:

Khaula bint Hakim was one of those ladies who presented themselves to the Prophet for marriage. ‘Aisha said, “Doesn’t a lady feel ashamed for presenting herself to a man?” But when the Verse: “(O Muhammad) You may postpone (the turn of) any of them (your wives) that you please,’ (33.51) was revealed, ” ‘Aisha said, ‘O Allah’s Apostle! I do not see, but, that your Lord hurries in pleasing you.’ ”
Sahih al-Bukhari, Volume 7, Book 62, Number 48

For now, let us ignore Aisha’s blasphemous comments about Allah (swt). But, what does this seem to suggest? Well, to make things clearer, al-Hafiz al-Asqalani in his commentary of the above hadith in his Fath al-Bari (Dar al-Ma’rifat, Beirut) 9/164 states:

هي خولة بنت حكيم السلمية

She was Khaula bint Hakim al-Salamiyah.

If that is not clear enough, we read:

عن خولة بنت حكيم وكان رسول الله صلى الله عليه سلم تزوجها

Narrated Khaula bint Hakim, and the Messenger of Allah married her ….

Majma’ al-Zawaid 9/418, No. 15410 (declares its chain hasan)

Mu’jam al-Awsat 1/204

So, in other words, the Holy Prophet, according to Sunni books, probably married one of his own aunts?

As for Aisha’s verbal attack against Allah (swt), that should be nothing really. This is because she never believed in the prophethood of Muhammad . Well, before you make any objections, read this. This is from Musnad Abu Ya’la (Dar al-Mamun lil Turath, Damascus, first print, 1984; annotator: Husayn Salim Asad) 8/129 No. 4670. It is Aisha’s angry statement to the Holy Prophet :

ألست تزعم إنك رسول الله ؟

Are you not the one falsely claiming/presuming to be the Messenger of Allah?

This accusation hurt Abubakr, who was present, so much that he slapped her! Well, whatever the case, she said it. And whether Abubakr too was only pretending, in unclear.

Husayn Salim Asad, the annotator, states:

رجاله ثقات

Its narrators are trustworthy.

………………………………………..

Q1 : Is it right to marry one’s auntie? I mean where do u stop?

Q2. Why should we believe a man to  be a prophet of god when his [most beloved] wife did not consider/believe him to be one?