केवल वेद ही हमारे धर्मग्रन्थ हैं।

कृपया हर हिन्दू तक ये पहुंचाए और हमेंशा याद रखे👇
वेद – केवल वेद ही हमारे धर्मग्रन्थ हैं।।
📚📚📚📚📚📚📚
वेद संसार के पुस्तकालय में सबसे प्राचीन ग्रन्थ हैं। वेद का ज्ञान सृष्टि के आदि में परमात्मा ने अग्नि, वायु, आदित्य और अंगिरा – इन चार ऋषियों को एक साथ दिया था। वेद मानवमात्र के लिए हैं।।

वेद चार हैं –

📜१. ऋग्वेद – इसमें तिनके से लेकर ब्रह्म – पर्यन्त सब पदार्थो का ज्ञान दिया हुआ हैं।
इसमें १०,५२२ मन्त्र हैं।
मण्डल – १०
सूक्त -१०२८
ऋचाऐं – १०५८९ हैं।
शाखा – २१
पद – २५३८२६
अक्षर – ४३२०००
ब्रह्मण – ऐतरेय
उपवेद – आयुर्वेद

📜२. यजुर्वेद – इसमें कर्मकाण्ड हैं। इसमें अनेक प्रकार के यज्ञों का वर्णन हैं।
इसमें १,९७५ मन्त्र हैं।
अध्याय – ४०
कण्डिकाएं और मन्त्र – १,९७५
ब्रह्मण – शतपथ
उपवेद – धनुर्वेद

📜३. सामवेद – यह उपासना का वेद हैं।
इसमें १,८७५ मन्त्र हैं।
ब्रह्मण – ताण्ड्य या छान्दोग्य ब्रह्मण।
उपवेद – गान्धर्ववेद

📜४. अथर्ववेद – इसमें मुख्यतः विज्ञान – परक मन्त्र हैं।
इसमें ५,९७७ मन्त्र हैं।
काण्ड – २०
सूक्त – ७३१
ब्रह्मण – गोपथ
उपवेद – अर्थवेद

📜 उपवेद – चारों वेदों के चार उपवेद हैं। क्रमशः – आयुर्वेद, धनुर्वेद, गान्धर्ववेद और अर्थवेद।।

📜 उपनिषद् – अब तक प्रकाशित होने वाले उपनिषदों की कुल संख्या २२३ है, परन्तु प्रामाणिक उपनिषद् ११ ही हैं। इनके नाम हैं – ईश, केन, कठ, प्रश्न, मुण्डक, माण्डूक्य, तैत्तिरीय, ऐतरेय, छान्दोग्य, बृहदारण्यक और श्वेताश्वतर।।

📜ब्राह्मणग्रन्थ – इनमें वेदों की व्याख्या हैं। चारों वेदों के प्रमुख ब्राह्मणग्रन्थ ये हैं –
ऐतरेय, शतपथ, ताण्ड्य और गोपथ।।

📜दर्शनशास्त्र – आस्तिक दर्शन छह हैं – न्याय, वैशेषिक, सांख्य, योग, पूर्वमीमांसा और वेदान्त।।

📜स्मृतियां – स्मृतियों की संख्या ६५ हैं, परन्तु प्रक्षिप्त श्लोकों को छोङकर मनुस्मृति ही सबसे अधिक प्रमाणिक हैं। इनके अतिरिक्त आरण्यक, धर्मसूत्र, गृह्यसूत्र, अर्थशास्त्र, विमानशास्त्र आदि अनेक ग्रन्थ हैं।।

📜 वेदों के छह वेदांग – शिक्षा, कल्प, निरूक्त, व्याकरण, ज्योतिष और छन्द।।

📜 वेदों के छह उपांग – जिन को छः दर्शन या छः शास्त्र भी कहते हैं।
१. कपिल का सांख्य
२. गौतम का न्याय
३. पतंजलि का योग
४. कणाद का वैशेषिक
५. व्यास का वेदान्त
६. जैमिनि का मीमांसा

विनंती: इस मैसेज को संभाल कर रखे।

http://hinduonline.co/AudioLibrary/Mantras/RgVeda.html

http://hinduonline.co/AudioLibrary/Vedas.html

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s